TheResistanceNews

Resistance to known the truth

अफगान सुलह के लिए अमेरिका ने मुँह की खाई, अशरफ़ ग़नी और अमेरिका में विवाद उभरे

1 min read
afghanistan peace talks america failed

afghanistan peace talks america failed

अफगान सुलह के लिए अमेरिका ने मुँह की खाई, अशरफ़ ग़नी और अमेरिका में विवाद उभरे काबुल। अफगान सुलह के लिए तालिबानी ताक़तों के साथ अमेरिका की बातचीत को धक्का लगा है। फिलहाल लग रहा है कि अमेरिकी प्रतिनिधि ज़लमी ख़लीलज़ाद और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी के बीच उभरे विरोधाभास के बाद यह शांति प्रक्रिया थम गई है। इस स्थिति से अमेरिका को फिर मुँह की खानी पड़ी है।
Read More  UAE leaders congratulate Narendra Modi on India election win
सूत्रों ने बताया कि अफगानिस्तान और तालिबान की शांति वार्ता एक बार फिर रुक गई है क्योंकि अमेरिका अफगानिस्तान के तालिबान आतंकवादियों से तो बात करना चाहता है लेकिन अफ़ग़ान सरकार को इसमें शरीक नहीं करना चाहता। इससे अमेरिका के तालिबान को कथित रूप से मुख्य धारा में लाकर उसे शांतिप्रिय लोकतांत्रिक स्वरूप में लाने के प्रयासों को धक्का लगा है। अफगान-तालिबान शांति वार्ता पर बवाल यह है कि अमेरिका जल्दी से जल्दी अफगानिस्तान से बाहर आना चाहता है क्योंकि उसकी गिरती अर्थ व्यवस्था के बाद वह यह ख़र्च बर्दाश्त करने की परिस्थिति में नहीं है। अफगानिस्तान-तालिबान वार्ता रद भी हो सकती है। अफ़ग़ान तालिबान से बातचीत के लिए अमेरिका ने अपने प्रतिनिधि ज़लमी ख़लीलज़ाद को 5 सितम्बर 2018 से नियुक्त किया है। किसी ज़माने में जॉर्ज बुश के करीबी और रिपब्लिकन पार्टी के खासमखास ख़लीलजाद को अमेरिका ने अफगानिस्तान वार्ता का प्रमुख बनाया है। लेकिन अपनी शर्तों पर बाहर निकलने के चक्कर में वह अब तक कुछ भी ठोस प्रगति नहीं कर पाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *