हमारी लड़ाई सीधे तौर पर गिरिराज सिंह से है ,तनवीर हसन से नहीं है: कन्हैया कुमार

पटना: आरोप प्रत्यारोप और अटकलों के बीच आज कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया ने पटना में प्रेस कांफ्रेंस कर के साफ़ कर दिया की बहुचर्चित युवा नेता कन्हैया कुमार ही बेगुसराय से यूनाइटेड लेफ्ट के प्रत्याशी होंगे, यहाँ से साफ़ हो जाता है की बिहार का बेगुसराय सीट लोकसभा चुनाव के लिए बहुत ख़ास होने वाला है. बता दें की भाजपा ने वहां से अपने फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह  को बेगुसराय का टिकट दिया है.

कन्हैया कुमार ने कहा की जहाँ हमारी पार्टी चुनाव नहीं लड़ेगी वह हम महागठबंधन का साथ देंगे. उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में ये भी कहा की देश बचाने  के लिए हम हमेशा विपक्ष के साथ संसद से लेकर सड़क तक रहेंगे लेकिन इसका ये मतलब नहीं है की हम किसी के इगो की पूर्ती करने के लिए भाजपा विरोधी मतों को बटने देंगे.

कन्हैया कुमार ने अपने प्रतिद्वंदी गिरिराज सिंह पर हल्ला बोलते हुए कहा की हमें तो पता ही नहीं चला की वो देश में किसी मंत्री पद पर भी थे, मुझे तो लगा वो पाकिस्तान के वीजा मंत्री हैं. उन्होंने आगे कहा की गिरिराज सिंह खुद बेगुसराय नहीं आना चाहते है इसीलिए उनके नखरे दिल्ली में चल रहे है ऐसे नेता को बेगुसराय की जनता क्या अपनाएगी जो खुद बेगुसराय को नहीं अपनाना चाह रहे हों.

भाजपा पर हमला करते हुए श्री कन्हैया ने कहा की हमारा मुकाबला किसी पार्टी या किसी नेता से नहीं है हम लोकतंत्र को बचाने  के लिए, देश के संविधान को बचाने के लिए साथ आयें, क्योँ की भाजपा के नेता खुद बोल चुके हैं की अगर इस बार नरेन्द्र मोदी जीत कर आये तो चुनाव ही नहीं होगा.

पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कन्हैया ने कहा की हमारी लड़ाई तेजस्वी से नहीं, हम सामाजिक न्याय के लिए कई बार मंच साझा कर चुके हैं, और आगे भी जब भी जरूरत होगी साथ आएंगे और मिल कर लड़ेंगे. उन्होंने ये भी कहा की महागठबंधन के साथ उनका गठबंधन हो या न हो बेगुसराय की जनता के साथ उनका गठबंधन हो चूका है.

तनवीर हसन पर सवाल पूछे जाने पर कन्हैया कुमार ने कहा की उनका मुकाबला तनवीर हसन से है ही नहीं उनका मुकाबला भाजपा के नफरत और हिन्दू मुस्लिम वाले बयां देने के लिए प्रख्यात गिरिराज सिंह से है.